Thursday, February 26, 2009

सावधान! बॉस भी पढ़ते हैं आपके कॉमेंट

रोज़ की तरह आज भी मैं मसालों यानी चटपटी ख़बरों की खोज में ब्रितानी अखबार Dailymail की साइट पढ़ रहा था। मसालों की खोज की इच्छा एक सीरियस ख़बर को पढ़ते ही ख़त्म हो गई। चलिए, दो लाइन ख़बर के बारे में जिक्र कर देता हूं। पूर्वी ब्रिटेन के एसेक्स में किम्बर्ले स्वान ने तीन सप्ताह पहले ही नई नौकरी शुरू की थी। जाहिर है परिजनों की जिज्ञासा थी कि काम कैसा है। इसके जवाब में उन्होंने सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक पर लिख दिया था कि बोरिंग काम है। उनके बॉस ने नेट सर्फ करते हुए फेसबुक पर उनके कॉमेंट को पढ़ लिया और नौकरी से निकाल दिया।


ऐसे मामले पहले भी होते रहे होंगे, लेकिन मैं पहली बार नौकरी से निकाले जाने की इस नई तरकीब से रूबरू हुआ हूं। इस खबरे को पढ़ने के बाद से ही यह सवाल मुझे बार-बार परेशान कर रहा है कि क्या हम निजी बातचीतों में भी अपने काम की प्रकृति की निंदा नहीं कर सकते? अगर नहीं, तो क्या नौकरी और दास प्रथा (24 घंटे की गुलामी) में कोई अंतर है? नौकरी देने वाले संस्थान नियत समय के लिए हमारी कार्यक्षमता के दोहन के अधिकारी तो हैं, लेकिन हमारी सोच पर कैसे उनका पहरा हो सकता है।


दूसरी बात, हम सब जानते हैं कि अमेरिका और इंग्लैंड की हर व्यवस्था और अधिक क्रूर व परिष्कृत होकर भारतीय कॉरपरेट सेक्टर में लागू होती है। इस कथित मंदी के इस दौर में हमारे बॉसों ने भी हम सबके फेसबुक और ऑर्कुट के पन्नों पर पोस्टेड कॉमेंट को बहाना बनाकर हथियार भांजना शुरू कर दिया तो? यह सवाल सुनने में जरूर बेतुका लग सकता है, लेकिन खबर पढ़ने के बाद से मेरे मन में बार-बार यही सवाल उठ रहा है। इस सोच के पीछे नौकरी जाने का भय नहीं है, बल्कि अभिव्यक्ति की जो थोड़ी-बहुत आजादी है उसके भी गुम होने का डर है। मुझे तो उसकी आहट सुनाई दे रही है, हो सकता है आप लोग इसे खारिज कर दें। वैसे करने का पूरा हक भी है आपको, क्योंकि विचारों की यही आजादी तो हमें प्यारी है।

6 comments:

अंशुमाली रस्तोगी said...

फिलहाल अपने बॉस तो नहीं पढ़ते।

PD said...

sochna parega.. mere boss mere orkut frnd list me bhi hain..

संगीता पुरी said...

अच्‍छी जानकारी दे दी ... लोगों को सावधान रहना चाहिए ।

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

प्रभाष कुमार जी, क्यूं बिना बात के ट‌ैंशन ले रहे हो. जिस घट्ना का आप जिक्र कर रहे हैं.ऎसे वाक्ये अक्सर नहीं हुआ करते.

akhileshwar pandey said...

इस घटना से यह बात तो साफ हो गई है कि परिस्‍थितयां बदली हैं। नौकरी अब पहले जितनी सुरक्षित नहीं रही। खासकर प्राइवेट। तलवार की धार पर चलने जैसा है। अच्‍छी जानकारी के लिए बहुत-बहुत धन्‍यवाद।

स्वदेश said...

SIR, ISILIYE TO APAN IS CHAKKAR SE HI BAHAR AA GAYE...

KAUN JHANJHAT LETA